भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

मने जन्मदिन / राजनारायण चौधरी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मने जन्म-दिन मेरा!
फूलों से मह-मह-मह करते
हैं घर-आँगन सारे,
नीले-पीले लाल, बैंगनी
लटक रहे गुब्बारे।

जगमग-जगमग करे रोशनी,
भागा दूर अँधेरा!

नए-नए कपड़ों में नन्हा
राजकुंवर मैं लगता,
दिल में रह-रहकर खुशियों का
जलतरंग है बजता।

लगे आज घर-आँगन ने भी
मधुर-मधुर स्वर छेड़ा!

कुंकुम-रोली का टीका
मेरे माथे पर सोहे,
रंग-बिरंगी लटकी झालर
सबके मन को मोहे।

दे-दे मुझे बधाई सबने
चूमा माथा मेरा!

मोमबत्तियाँ और केक
लेकर पापा हैं आए,
मिठाइयों से भर-भरकर
मम्मी ने थाल सजाए।

कलाकंद, बरफी, चमचम हैं
है रसगुल्ला-पेड़ा!