भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

मन रो लोभ / ओम पुरोहित कागद

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मेह
आंधी
दिन अर रात
एक टांग
नी रैवे खड़्यौ
लोभी मिनख
भंवतो फिरै
खेत-घर
घर-खेत
खेत में ऊभौ कर
मन रो लोभ
अड़वै रै मिस।