भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

मन वृन्दावन / अनन्या गौड़

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

सरल प्रेम जो महके तो मन वृन्दावन हो जाए
बरसे नेह की बरखा यह जग सावन हो जाए

बसा लो तुम हृदय में, यदि कृष्ण-सा मिले कोई
 यह मन तुम्हारा राधिका सम पावन हो जाए

 समझ लो बात अनकही, उनके भी मन की तुम
चहके फूलों की क्यारी, उपवन आँगन हो जाए

पहचान लें पर-पीर, जग होगा दुखों से दूर
 बिखरेगी ख़ुशी हर ओर जहाँ मनभावन हो जाए