भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

मम्मी-पापा कब आएँगे? / रमेश तैलंग

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

देखो, कितनी देर हो गई,
क्या गाड़ी फिर लेट हो गई?
उनके इंतजार में बैठे-
हम तो पागल हो जाएँगे।
मम्मी-पापा कब आएँगे?

उनकी गाड़ी बहुत बुरी है,
जाने अब तक कहाँ रुकी है,
थककर आएँगे देरी से
साथ घूमने न जाएँगे।
मम्मी-पापा कब आएँगे?

आठ बजे तक आ जाते थे,
खाना हम संग-संग खाते थे,
अब तो ग्यारह बजे रात के
बारह भी फिर बज जाएँ
मम्मी-पापा कब आएँगे?