भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए

मम कौन कहौँ यह कासोँ कहौँ पुनि साँचिय कोऊ न मानत है / रसकेश

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मम कौन कहौँ यह कासोँ कहौँ पुनि साँचिय कोऊ न मानत है ।
जिन्ह व्यापी नहीँ या वियोग विथा सो कहा दुख को पहिचानत है ।
रसिकेश कहूँ बिरही जो मिलै बिरही गति सो उर आनत है ।
नर नारि सँयोग वियोग कहा मिलि कै बिछुरै सोई जानत है ।


रसकेश का यह दुर्लभ छन्द श्री राजुल मेहरोत्रा के संग्रह से उपलब्ध हुआ है।