भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  रंगोली
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार
Roman

मरघट की होऊँ डाकिन रे बनदेवा / पँवारी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

पँवारी लोकगीत   ♦   रचनाकार: अज्ञात

मरघट की होऊँ डाकिन रे बनदेवा
बठू भौजी की कोख रे बनदेवा
गौवा चराऊं मखऽ नींद नी आवत।।