भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

मरवण / नीलम पारीक

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

बा जले आप ही
धुप में
चाले
काँटा पर
तपती बालू
पगां उभाणे
तिरसा सूखा होठां
भर ल्यावे दो घड़ माट
मीलां चाल
खावे चोट तन पर मन पर
फेर बी जोवे
साँझ रो दिवलो
घर री खुसहाली खातर
आप रवे भूखी
पर बनावे तीज तिवार
मीठा पकवान
आपरो जीवन थार सो
पर बनावे आपणा खातर
मरवण