भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए

मस'अला रूह का ... / सुरेश स्वप्निल

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

सियासत-सियासत[1] न खेला करो
सुख़न[2] का सही वक़्त देखा करो

किसी दिन क़सम से, चले आएँगे
हमें यूँ न पैग़ाम[3] भेजा करो

झुलस जाएँगी आपकी उँगलियाँ
न यूँ राख़ दिल की कुरेदा करो

शबे-वस्ल[4] है मस'अला[5] रूह का
सरे-बज़्म[6] क़िस्सा न छेड़ा करो

जहाँ रूह को रौशनी मिल सके
उसी शह् र में अब बसेरा करो

ख़ुदा अब किसी पर मेह् रबाँ[7] नहीं
ज़ेह् न[8] में नई सोच पैदा करो

इधर रिज़्क़[9] है तो इबादत[10] उधर
कहाँ तक सुबह-शाम फेरा[11] करो !

शब्दार्थ
  1. राजनीति
  2. अभिव्यक्ति
  3. संदेश
  4. मिलन-निशा
  5. विषय
  6. भरी सभा में
  7. कृपालु
  8. मस्तिष्क
  9. आजीविका
  10. पूजा-पाठ
  11. चक्कर काटना