भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

मस्तूल / मिख़ाइल लेरमन्तफ़

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

बुर्राक सफ़ेद मस्तूल अकेला सागर में
चमक रहा है नीले कोहरे की गागर में..
क्या खोज रहा आख़िर वह सुदूर देश में?
क्या छोड़ा, क्या भूल आया वह स्वदेश में? ...

हवा बजाए सीटी औ’ लहरें उछल रही हैं
चरमराए मस्तूल, तेज़ हवा से लचक रहा है ...
नहीं, नहीं ढूँढ़ता सुख-सौभाग्य वह सागर में
नहीं भागता ख़ुशी से बचकर, धचक रहा है

उसके नीचे चमक रहा जल हल्का नीला,
उसके ऊपर चमके सूरज सोने सा पीला ...
और वह विद्रोही, झंझाओं से करे अनुरोध
तूफानों में मिले शान्ति, उसको यह बोध

मूल रूसी से अनुवाद : अनिल जनविजय

और अब यह कविता मूल रूसी भाषा में पढ़ें

Парус
Белеет парус одинокой
В тумане моря голубом!..
Что ищет он в стране далекой?
Что кинул он в краю родном?...
Играют волны — ветер свищет,
И мачта гнется и скрыпит...
Увы! Он счастия не ищет
И не от счастия бежит!
Под ним струя светлей лазури,
Над ним луч солнца золотой...
А он, мятежный, просит бури,
Как будто в бурях есть покой!