भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

महँगे खिलौने / रमेश तैलंग

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

रहने दो, रहने दो महँगे खिलौने,
जेब पर अपनी ये भारी पडेंगे।
इनसे भले हैं ये मिट्टी के घोड़े,
इन पर ही अब हम सवारी करेंगे।

छोटे हैं, फिर भी हम इतना समझते,
कैसे गिरस्थी के खर्चे हैं चलते,
जिद की जो हमने तो पापाजी अपने
न चाहते भी उधारी करेंगे।
रहने दो, रहने दो महँगे खिलौने,
जेब पर अपनी ये भारी पडेंगे।

मिट्टी के घोड़े हैं थोड़े पुराने,
पर कितने मन से दिए हमको माँ ने,
घरभर से छिपके, दुख-सुख में इनसे-
हम मन की बातें सारे करेंगे।
रहने दो, रहने दो महँगे खिलौने,
जेब पर अपनी ये भारी पडेंगे।