भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

महफिलों में जा के घबराया किये / 'बाकर' मेंहदी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

महफिलों में जा के घबराया किये
दिल को अपने लाख समझाया किये

यास की गहराइयों में डूब कर
ज़ख्म-ए-दिल से ख़ुद को बहलाया किये

तिश्‍नगी में यास ओ हसरत के चराग़
ग़म-कदे में अपने जल जाया किये

ख़ुद-फ़रेबी का ये आलम था के हम
आईना दुनिया को दिखलाया किये

ख़ून-ए-दिल उनवान-ए-हस्ती बन गया
हम तो अपने साज़ पर गाया किये