भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

माँ-2 / राजूरंजन प्रसाद

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मैंने कहा--दुख
और माँ का चेहरा म्लान हो गया
शिथिल पड़ने लगीं देह की नसें
कहां रही ताक़त
जवान गर्म खून की
दौड़ता फिरे जो
अश्वमेध के घोड़े-सा
मैंने कहा--मां
और उसकी आंखों में आंसू आ गए।
(9.7.01)