भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

माँ के के लिए / ओम प्रकाश नदीम

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

सभी ये कह रहे हैं तू जहाँ से उठ गई है माँ
मगर मुझे ये बात सबकी झूट लग रही है माँ

वही कहावतें , वही मुहावरे , वही ज़बाँ
मेरी ज़बान से दरअस्ल तू ही बोलती है माँ

तेरी बहू से जब कभी भी मनमुटाव हो गया
मेरी निगाह में उसे तू ही दिखाई दी है माँ

तेरा ही रूप रंग मुझमें है तेरा ही ढंग है
तेरा जमाल मुझमें है तेरा जलाल भी है माँ

तेरे खयाल-ओ-ख़्वाब हैं तेरी दुआएँ साथ हैं
हज़ार रूप में है तू मगर तेरी कमी है माँ