भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

माँ तू साथ हैं मेरे तुझे मेरे हर ग़म की खबर है / सिया सचदेव

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

माँ तू साथ हैं मेरे तुझे मेरे हर ग़म की खबर है
बिन तेरे है धूप कड़ी और मुश्किल सफ़र है

सर पे मेरे आज तेरी ममता की ठंडी छावं नहीं
कैसे झुलसा सा मन कैसी ये तपिश का असर है

रात को सोते हुए ख्वाब से जब मैं घबरा जाती
क्यों घबराए मैं पास हूँ लाडो, किस बात का डर है

जब से गयी तू मां मैंने कभी ना खाया मन से
हाथो में जो स्वाद तेरे, वो ना किसी में हुनर है

आज सिया के पास नहीं तू ,तेरी यादे है बाकी
माँ तुझसा कोई भी तो आता ना नज़र है