भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

मांटी / मथुरा नाथ सिंह 'रानीपुरी'

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मांटी केॅ मांटी सें दोष
मांटी केॅ मांटी सें रोष
मांटी केॅ मांटी सें जोश
मांटी दूर करै मांटी सें
मांटी, मांटी कोसमकोस॥

मांटी केॅ मांटी सें लाज
मांटी केॅ मांटी सें खाज
मांटी तड़पावै मांटी केॅ
मांटीसे मांटी बेहोश॥

मांटी केॅ मांटी से डेरा
मांटी मेटै मांटी डेरा
मांटी डरवावै मांटी केॅ
मांटी-मांटी केँ अफसोस॥

मांटी-मांटी केँ लतियाबै
मांटी मांटी केँ हथियाबै
मांटी जगाय दै-
मांटी में जोश॥

मांटी केॅ मांटी सें जान
मांटी, मांटी सें अनज न
मांटी तोड़ै छै मांटी केॅ
हौ, मांटी रोॅ तोड़ै होस

मांटी केॅ मांटी से राग
मांटी लगावै मांटी में आग
मांटी, मांटी मध्य मिलावै
मांटी केॅ नैं बचलै कोष॥

मांटी केॅ मांटी अनुरोध
मांटी सें नै करोॅ विरोध
मांटी कहै मांटी मथुरा सें
मांटी केॅ राखोॅ निर्दोष॥