भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

माचिस / रमेश तैलंग

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

माचिस की डिब्बी के अंदर
कई तीलियाँ रहती हैं।
‘आग भरी है हममें’ हमसे
सभी तीलियाँ कहती हैं।
हँसी-खेल की चीज नहीं हम
हमसे खेल नहीं करना।
बचकर रहना, बिना काम के
हमसे मेल नहीं करना।