भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

मानवता का दर्द लिखेंगे, माटी की बू-बास लिखेंगे / अदम गोंडवी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मानवता का दर्द लिखेंगे, माटी की बू-बास लिखेंगे ।
हम अपने इस कालखण्ड का एक नया इतिहास लिखेंगे ।

सदियों से जो रहे उपेक्षित श्रीमन्तों के हरम[1] सजाकर,
उन दलितों की करुण कहानी मुद्रा[2] से रैदास लिखेंगे ।

प्रेमचन्द की रचनाओं को एक सिरे से खारिज़ करके,
ये 'ओशो' के अनुयायी हैं, कामसूत्र पर भाष लिखेंगे ।

एक अलग ही छवि बनती है परम्परा भंजक होने से,
तुलसी इनके लिए विधर्मी, देरिदा[3] को ख़ास लिखेंगे ।

इनके कुत्सित सम्बन्धों से पाठक का क्या लेना-देना,
लेकिन ये तो अड़े हैं ज़िद पे अपना भोग-विलास लिखेंगे ।

शब्दार्थ
  1. अन्तःपुर, जनानख़ाना
  2. हिन्दी के लेखक मुद्राराक्षस
  3. विखण्डनवाद का सिद्धान्त देने वाले पाश्चात्य विद्वान जॉक देरिदा