भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

मानव की कीमत तभी / त्रिलोक सिंह ठकुरेला

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मानव की कीमत तभी,जब हो ठीक चरित्र।
दो कौड़ी का भी नहीं, बिना महक का इत्र॥
बिना महक का इत्र, पूछ सदगुण की होती।
किस मतलब का यार,चमक जो खोये मोती।
'ठकुरेला' कविराय, गुणों की ही महिमा सब।
गुण,अबगुन अनुसार,असुर,सुर,मुनिगन,मानव॥