भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

माना, मेरा मुह सी दोगे, उसकी जीभ कतर दोगे / विनय कुमार

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

माना, मेरा मुह सी दोगे, उसकी जीभ कतर दोगे।
पर अपनी बड़बोली आँखों को कैसे चुप कर दोगे।

पत्थरबाज़ी से नफ़रत है लेकिन मुझको आती है,
उतने तो लौटा ही दूँगा जितने तुम पत्थर दोगे।

लड़नेवालों को बंकर, मर जानेवालों को क़ब्रें
खुद को क्या दोगे जब हथियारों को अपना घर दोगे।

अंधा मूसल, हाथ मशीनी, उल्टा स्विच, शातिर ऊँगली
ऊखल में चांदी के चावल, लालच में तुम सर दोगे।

एक तरफ़ से धन्वन्तरि, दूसरी तरफ़ से तक्षक हो
काट ज़हर का दोगे तुम हँसकर, लेकिन डँसकर दोगे।

बेटी जैसी गोरैया को तुम से यह उम्मीद न थी
पिंजरे के बाहर, ऊपर अम्बर नीचे सागर दोगे।

रच डाला है कैसा रिश्तों का बागीचा कागज़ पर
ओ लिखनेवाले, बोलो, कितने में यह मंज़र दोगे।