भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

मायतां री सीख / हनुमान प्रसाद बिरकाळी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

जद माइत हा
समझांवता हरमेस
देंवता सीख
पण बा सीख
उण घड़ी
भोत लागती
खारी-खारी
सीख माथै चालतां
पूगता पण ठावै ठिकाणैं।

आज जद
नीं है माइत
सीख रै गेलां
जमगी रेत
अब पिछतावां
पिछतायां पण
आवै काई हाथ
जद चुगगी चिड़कली
समझ रो खेत।