भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए

मायाला / अनामिका अनु

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

बैंगनी किताब
हरा बुक मार्क
और भीतर की
वह उफ़्फ़ सी मीठी खटाई

किताब नहीं मायाला[1] थी

बिक रही थी
केरल की उन दुकानों में
जहाँ हर स्वाद मिलता था

झक कर खाने वाले
मोल लाते थे
झोले भर-भर कर
और हंसते शब्द विदा हो लेते थे
हर उस दुकान से

शब्दार्थ
  1. मैंगोस्टीन