भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

माली चाचा / अंजनी कुमार सुमन

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

माली चाचा मान बचाभोॅ
यहू गाछ के जान बचाभोॅ
देखोॅ कैन्हें मुरझैलोॅ छै
कैन्हें छै सुनसान बचाभोॅ

माली चाचा मान बचाभौ
यहू गाछ के जना बचाभौ।

की होलै हम नै जानै छी
एकर हालत पर कानै छी
कल्हे सें छै मोॅन नै लागै
बच्चा के मुस्कान बचाभोॅ
माली चाचा मान बचाभोॅ
यहू गाछ के जान बचाभोॅ।