भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

मिटती नहीं हैं उम्मीदें / नवीन कुमार दास

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

सुहाता नहीं पानी का शोर
मगर सुहाता है
शोर आसमान का
उड़नखटोले का
जिससे कभी-कभी गिरते हैं
सत्तू के ठोंगे
और तृप्त कर देती है
चने-खेसारी की भखराई महक
ये कोसी मैया की बाहें हैं
और इस में सचमुच रहते हैं लोग ही
जो न आदिमानव हैं
न प्रस्तरयुगीन
ये इनसेट और अपोलो अस्पताल युग के ही लोग हैं

बाहर के लोग यहाँ नहीं आते
चुनाव के समय भी नहीं
वोट होता है, सुनते हैं नाव पर ही
ना ही कहीं और जाने को तैयार होते हैं ये
क्योंकि छिन्न होती नदी के साथ
छिन्न होती जाती हैं चिंताएँ
आँगन में सूखता है रिलीफ़ का गेहूं
और ओसारे -टाट -छप्पर तक
फ़ैल जाती है ज़िन्दगी
घुन कि शक्ल में
सूखते गड्ढों से मार लाते हैं बच्चे
पोठी गरइ चेंग मछलियाँ और केकड़े
जब आग में पकाए जाते हैं
तो उबकाती रोटी के साथ
स्वाद को जीत लेते हैं

घटते नहीं कंचू के पत्ते
मिटते नहीं कंचू के कंदे
ना ही मिटती है उम्मीदें
सेम कि लताओं के साथ
पसर जाती है हरियाली
तार-तार हुए मन-प्राण पर

इस बार
यदि सुतर गया
तो ललौंछ भदैया भात के साथ
पटुआ साग
और सुसुआही मिर्चों के दिन
चमकने लगते हैं
पसरे हुए चकमक बालू पर ।