भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

मिट्टी का अनुराग (कविता) / सुभाष काक

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

देश प्रेम कहां से उभरता है?
हमारे कूचे कीचड वाले थे
और भय था
बाजार के गुंडे
पीट न लें।
चुप रहना सीखा
अज्ञात भीड में
पिघल जाना।

यह सच है --
पतझड की हवाएं
तीखी और सुहावनी थीं
और नदी के पास
उपवन में भागना
पहाडी से लुढकना
आनन्‍दमयी था।

पुरखों की कहानियां
रोमांचित थीं
उनसे जुडी हुईं
मैंने भी कई कथानक बुने।

पर अन्‍य देशों की भी
अपनी कहानियां हैं
सुन्‍दर घाटियां
पर्वतीय नदियां
सुन्‍दरियां।

अन्‍तर शायद है
बचपन में
मैंने देश की
मिट्‍टी खाई।

यह देश मोह नहीं
मिट्‍टी का अनुराग है।