भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

मिस्टर रैट / प्रकाश मनु

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मिस्टर रैट
लगाकर हैट,
चले खेलने लेकर बैट।

बोले मुझको
क्या समझा है,
खेलूँगा बढ़िया क्रिकेट!

तेवर अपने
खूब दिखाए,
चौके-छक्के खूब छुड़ाए!

तभी दिखाई दी
एक बिल्ली,
बिल्ली थी वह खूब चिबिल्ली।

काँपे थर-थर
छूटा बैट,
सरपट भागे मिस्टर रैट।