भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

मिस बिल्ली / बाबूराम शर्मा 'विभाकर'

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मिस बिल्ली जी छाता लेकर निकलीं करने सैर,
ऊँची एड़ी के जूतों के कारण फिसला पैर।
तभी अचानक काला कुत्ता दीखा उनको आता,
डर के मारे भगीं छोड़ बेचारी अपना छाता।