भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

मिहरा बरसत वृन्दावन में / शिवदीन राम जोशी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मिहरा बरसत वृन्दावन में |
तन राधा का मस्त लहरिया, भीगा मन मोहन में ||
छम-छम छम-छम पायल बाजे, चलत चाल श्रीराधे साजे |
धन्य-धन्य श्रीकृष्ण कलाधर शोभित शुभ नर तन में ||
मुरलीधर की मुरली बाजी, ग्वाल सखा ब्रज बाला राजी |
यमुना तट पर खड़ा सांवरा, बिजरी चमकत घन में ||
मौर पपैया दादुर बोले, भांति-भांति के पक्षी डोले |
हरी हरियाली, कोयल कूँकत बोले मधुर स्वरन में ||
शिवदीन मनोरम छटा निराली, जय-जय जय प्यारे बनमाली |
युगल छबि उर बसत हमारे, देखो इन नयनन में ||