भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

मुगलाँ ज़हर पियाले पीते / बुल्ले शाह

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मुग़लों ने ज़हर के प्याले पिए हैं।
कम्बलधारी जाटों को राजा बनाया गया है।
सभी शरीफ़ लोग चुपचाप घूम रहे हैं
और आप उनकी उपेक्षा कर रहे हैं।
हे इश्क़! तूने दूर रहकर मुझे शोकग्रस्त कर दिया है
बता, तूने किस को पार लगाया है?


मूल पंजाबी पाठ

मुग़लाँ ज़हर पियले पीते,
भूरियाँ वाले राजे कीते,
सभ अशरफ़ फिरन चुप कीते,
भला उन्हाँ नूँ झड़िया ए,
रहो रहो वे इश्क़ा मा मारया ए,
कहो किस नूँ पार उतारया ए।।