भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

मुझे कुलहीन रहने दो / शंकर प्रलामी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मुझे कुलहीन रहने दो
Mujhe kulhin rahne do.jpg
रचनाकार शंकर प्रलामी
प्रकाशक राधाकृष्ण प्रकाशन
वर्ष 2002
भाषा हिन्दी
विषय कविताएँ
विधा कविता
पृष्ठ 115
ISBN 8171797841
विविध मूल्य(सजिल्द) :150
इस पन्ने पर दी गई रचनाओं को विश्व भर के स्वयंसेवी योगदानकर्ताओं ने भिन्न-भिन्न स्रोतों का प्रयोग कर कविता कोश में संकलित किया है। ऊपर दी गई प्रकाशक संबंधी जानकारी छपी हुई पुस्तक खरीदने हेतु आपकी सहायता के लिये दी गई है।
  • मुझे कुलहीन रहने दो (कविता) / शंकर प्रलामी