भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

मुझे मंज़ूर काग़ज़ पर नहीं पत्थर पे लिख देना / 'फ़ज़ा' इब्न-ए-फ़ैज़ी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मुझे मंज़ूर काग़ज़ पर नहीं पत्थर पे लिख देना
हटा कर मुझ को तुम मंज़र से पस-ए-मंज़र पे लिख देना

ख़बर मुझ को नहीं मैं जिस्म हूँ या कोई साया हूँ
ज़रा इस की वज़ाहत धूप की चादर पे लिख देना

उसी की दीद से महरूम जिस को देखना चाहूँ
मेरी आँखों को उस के ख़्वाब-गूँ पैकर पे लिख देना

बहुत नाज़ुक हैं मेरे सर्व क़ामत तेग़-जन लोगो
हज़ीमत ख़ुर्दगी मेरी सफ़-ए-लश्कर पे लिख देना

कभी मैं भी उड़ानें भरने वाला था बहुत ऊँची
मेरी पहचान इसी टूटे हुए शहपर पे लिख देना

सराबों के सफ़र से तू नहीं लौटा ‘फज़ा’ अब तक
जो ख़त लिखना तो इतनी बात उस के घर पे लिख देना