भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

मुझ पे ज़मज़म लुटाते तो कुछ बात थी / बेगम रज़िया हलीम जंग

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मुझ पे ज़मज़म लुटाते तो कुछ बात थी
आब-ए-कौसर पिलाते तो कुछ बात थी

सिर्फ़ रौज़ा दिखा कर ही लौटा दिया
ख़ाक-ए-तैबा बनाते तो कुछ बात थी

कितनी उम्मीदें लाई थी तकमील को
बर जो उम्मीदें लाते तो कुछ बात थी

मैं तो पलकों से सहलाती उन के क़दम
पास वो जो बिठाते तो कुछ बात थी