भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

मुझ में बसी थी धूप / वत्सला पाण्डे

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

धूप थी मुझमें कि
धूप में थी मैं

जलना तो
बाहर भीतर
दोनों ही रहा

धूप की कुनकुनाहट
गुनगुना कर
क्या कहती रही

तपिश ही थी
चारों ओर
‘रूख’ कहीं आस पास
देखे ही नहीं

तपते थे पाखी
तपता था जग
उसमें तपते रहे हम

किसी का सुख
किसी का
बनी दुःख

मुझमें बसी थी
एक धूप