भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  रंगोली
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार
Roman

मुन्ना! सो जा / विनोदचंद्र पांडेय 'विनोद'

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

सो जा, सो जा, मुन्ना सो जा।
आई पास रात की रानी
तुम्हें सुनाने मधुर कहानी,
परियां उतर रहीं धरती पर
सपनों की दुनिया में खो जा।
सो जा, सो जा, मुन्ना सो जा।
हंसते नभ में चंदा मामा
पहने चमचम जोड़ा जामा,
थपकी देते टिमटिम तारे
गला फाड़ मत रो, चुप हो जा।
सो जा, सो जा, मुन्ना सो जा।
सोए फूल मूंदकर आंखें
तितली नहीं खोलती पांखें,
चिड़ियों ने ले लिया बसेरा
तू भी भार नींद का ढो जा।
सो जा, सो जा, मुन्ना सो जा।