भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

मुफ़लिस तो खड़े रह गए ईमान की सफ़ में / ओम प्रकाश नदीम

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मुफ़लिस तो खड़े रह गए ईमान की सफ़ में ।
ज़रदार सभी आ गए भगवान की सफ़ में ।

बाज़ार के सिक्के की करामात तो देखो,
औसाफ़ भी अब लग गए सामान की सफ़ में ।

चिन्ता न करो अब भी बहुत लोग हैं हम-से,
चकबस्त-ओ-दयाशंकर-ओ-रसखान की सफ़ में ।

तूफ़ान के आते ही बदल जाएगा मंज़र,
मौजें भी नज़र आएँगी तूफ़ान की सफ़ में ।

जिस रोज़ से घर छोड़ के घर अपना बसाया,
उस रोज़ से हम आ गए मेहमान की सफ़ में ।