भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

मुसलसल हादसों से इस तरह खुद को बचाते हैं / चित्रांश खरे

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मुसलसल हादसों से इस तरह खुद को बचाते हैं
कोई भी हो यकीं करने से पहले आज़माते हैं

ये मेरा मशवरा है तुम यकीं क़समो पर मत करना
मुहब्बत में क़सम झूठी हज़ारों लोग खाते हैं

तेरे गालों पे अश्कों के निशा करते है साबित
तेरी कजलाई आँखों से कभी आंसू भी आते हैं

नदी यॅू तो हमेशा साहिलों के बीच बहती है
मगर जब ज़िद पे आ जाये तो साहिल डूब जाते हैं

अगर मंजिल की उम्मीदें न हो तो मत भटकना तुम
उन्हें भूला नहीं कहते जो वापस लौट आते हैं