भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

मुहब्बत टूट कर करता हूँ, पर अंधा नहीं बनता / डी. एम. मिश्र

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मुहब्बत टूट कर करता हूँ, पर अंधा नहीं बनता
ख़ुदा से भी मैं अपने प्यार एकतरफ़ा नही करता।

चलो अच्छा हुआ जो झूठ पर से उठ गया परदा
वो मेरा हो नही सकता , मै उसका हो नहीं सकता।

हज़ारों साल की सब दुश्मनी मैं भूल जाता हूँ
गले लगता हूँ तो दिल में कोई दूरी नहीं रखता।

भले सैयाद है फिर भी कही उसके भी दिल होगा
उसे भी कील चुभती है किसी का पंख जब कटता।

मेरे क़ातिल तलक मेरा कोई पैग़ाम पहुँचा दे
लहू आँखों से जब टपके तो फिर आँसू नहीं बहता।

दिखे नन्हीं -सी चिनगारी घरों में आग लग जाती
तुम्हें मालूम होगा क्यों चिराग़ों से धुआँ उठता ।