भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

मेरा घर / विनोद स्वामी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

पिछली बरसात में
रोया
मेरा घर
छत को
आंख बना ।
अबके
आंधी में
उड़ गई
छप्पर की पगड़ी।
दीवारें
जर्जर
पर
कितनी है तगड़ी ।