भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

मेरा छाता / प्रकाश मनु

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मेरा खूब रँगीला छाता,
सैर कराने को वर्षा में
है तैयार, छबीला छाता!

जब लेकर जाता हूँ बाहर
बन जाता है यह छोटा-सा घर,
इतना प्यारा, इतना सुंदर
जैसे हँसता नीला अंबर।

तेज हवा में तनकर रहता,
होता कभी न ढीला छाता!

सचमुच है यह सच्चा साथी
संग-संग चलता है दिन-राती,
तेज धूप हो या हो पानी
साथ निभाता है यह मानी।

मुझे भीगने कभी न देता,
चाहे खुद हो गीला छाता!