भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

मेरा मौसम / विजय कुमार पंत

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मेरा जीवन
एक हवाई सफ़र
सा
तुम्हारे सहारे चलता
हुआ मेरे “पाइलट”

जहाँ मुझे
मालूम होता है
तुम्हारी
उद्घोशानाओं से
बहार के मौसम का
हाल ,
तापमान ,उंचाई , और आने वाले
मौसम की
बाधाएं

सीमायें हैं यहाँ
पांव फ़ैलाने की
टकराती हैं कोहनियाँ
कभी रिश्तों से
कभी अरमानों से
सोच कि "सीट" भी अपनी सीमा में
ही झुक पाती है

काश
मेरा जीवन होता
वो रास्तों में खङखङाता
रिक्शा !!
जिसमें बैठ कर हम दोनों
एक दुसरे को निहारते हुए
सुनते
खामोश उद्घोशानाओं को ...