भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

मेरी आँखों में देख के तारे सितारे सारे शर्मा गये / इब्राहीम 'अश्क़'

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मेरी आँखों में देख के तारे सितारे सारे शर्मा गये
पर सजनी ने हाल न पूछा और समझाने सब आ गये

दिन सूने हैं रातें वीरान इक इक लम्हा आज परेशाँ
तेरी याद के काले साये शबों पर भी अब छा गये

आह भी अब कुछ काम न आये प्यास बढ़े और जाम न आये
ऐसी प्रीत की रीत निभा के सनम हम पछता गये