भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए

मेरी क़िस्मत से क़फस का या तो दर खुलता नहीं / 'सहर' इश्क़ाबादी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मेरी क़िस्मत से क़फस का या तो दर खुलता नहीं
दर जो खुलता है तो बंद-ए-बाल-ओ-पर खुलता नहीं

आह करता हूँ तो आती है पलट कर ये सदा
आशिकों के वास्ते बाब-ए-असर खुलता नहीं

एक हम हैं रात भर करवट बदलते ही कही
एक वो हैं दिन चढ़े तक जिन का दर खुलता नहीं

रफ़्ता रफ़्ता ही नक़ाब उट्ठेगी रू-ए-हुस्न से
वो तो वो है एक दम कोई बशर खुलता नहीं