भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

मेरी ख़राब कविताएं / राखी सिंह

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

जब भी कहीं मेरी प्रिय कविता की बात होती है
मुझे मेरी सबसे ख़राब कविताएँ याद आती हैं

वो जिनमे नहीं थी पसन्द पर खरे उतरने जितनी पात्रता
वो जिसमे नहीं था कोई आकर्षण
वो जिसे नकार दिया था सबने
वो मेरी छाती से चिपक बैठी
मेरी स्मृतियों में सदा प्रथम पायदान पर बनी रही
मैने बड़े दुलार से पोषित किया उन्हें
कि वह भी अन्य सराही गई रचनाओं की भांति निकली थी मेरी क्षमताओं के बूते से
उनका क्षीण होना, उनकी नही
मेरी क्षीणता थी
उन निर्दोष अभिव्यक्तियों की
दोषी मैं थी

जिस प्रकार माँ एक समान पालती है गर्भ में शिशु को
पर सभी नहीं होतीं एक समान
इसीलिए तो कई सन्तानो की माँ को
होता है विशेष स्नेह
सबसे दुर्बल, सबसे निर्धन
संतान से।