भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

मेरी मोहब्बत तोबा-तोबा / बलबीर सिंह 'रंग'

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मेरी मोहब्बत तोबा-तोबा,
आपकी नफ़रत तोबा-तोबा।

हुस्न की दौलत तोबा-तोबा,
इश्क़ की बरक़त तोबा-तोबा।

सुनते हैं श्रीमान करेगे,
नज़रे इनायत तोबा-तोबा।

कोई भी राहत रास न आई,
हाय री किस्मत तोबा-तोबा

ख़ाक नई तामीर करेंगे,
अहले सियासत तोबा-तोबा।

ख़ल्क में है इख़लाक़ हमारा,
मुल्क की हालत तोबा-तोबा।

साहिले-ग़म तक आ पहुँची है,
मौजे़ मसर्रत तोबा-तोबा।

जी में आये कह देता है,
‘रंग’ की जुर्रत तोबा-तोबा।