भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

मेरी सूनी ज़िन्दगी में सुख कभी आया तो था / सूफ़ी सुरेन्द्र चतुर्वेदी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मेरी सूनी ज़िन्दगी में सुख कभी आया तो था ।
ख़्वाब उसने भी सुनहरा एक दिखलाया तो था ।

मैं था ऊँचे दरख़्तों से कितना बेहतर दोस्तों,
कम से कम नीचे मेरे ख़ुद का सही साया तो था ।

लाख था पर्वत के पहलू में कोई पत्थर का दिल,
दिल मगर बहती नदी पे उसका भी आया तो था ।

बारिशों में इस बरस गलियों में कब पानी बहा,
एक बच्चा नाव काग़ज़ की बना लाया तो था ।

आशियाँ उसको बनाने का हुनर आया नहीं,
चन्द तिनके प्यार के मैं छोड़ कर आया तो था ।

बन गए कैसे हिमालय देखिए ज्वालामुखी,
आपने तो एक शोला यूँ ही भडकाया तो था ।