भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

मेरे मामा / नागेश पांडेय 'संजय'

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

जैसे मेरे, नहीं किसी के वैसे,
सबको मामा मिलें हमारे जैसे।

खूब हमारे साथ खेलते-खाते,
सैर कराने भी हमको ले जाते।
याद उन्हें कविताएं प्यारी-प्यारी,
उनके पास कथाएं ढेरों सारी।
घूम-घूम कर किस्से किए इकट्ठे,
दाँतों तले दबे उंगली, हाँ! ऐसे!

खेलें बालीबाल, कबड्डी, लूडो,
उछले, कूदें, हमें सिखाएं जूडो।
लड़ना-भिड़ना उन्हें नहीं भाता है,
एक-एक ग्यारह करना आता है।
जो माँगू सो हँसकर सदा दिलाते,
पर जाने क्यों कभी न देते पैसे?
देखा नहीं कभी उनको झुँझलाते,
जहां बैठ जाते हैं, खूब हँसाते।
दिखने में है सीधे-साधे फक्कड़
मगर बुद्धि से पक्के लाल बुझक्कड़।
सदा नियम से बँधकर रहते, करते
सारे के सारे ही काम समय से।