भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए

मेरे सनम के पास जो कहां वो ताज़गी मिले / मधुभूषण शर्मा 'मधुर'

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज


                          मेरे सनम के पास जो कहां वो ताज़गी मिले ,
                          कि बार-बार मिल के भी यही लगे अभी मिले !

                          खुशी में आपकी हुए जो लोग आप से भी खुश,
                          मिलें जो ऐसे लोग तो फिर और भी खुशी मिले !

                          ये लौ चिराग़ की है जो उसी में जल सके तो जल,
                          कि कब चिराग़ के तले किसी को रौशनी मिले !

                          ख़ुदा की बात शेख़ जी न कीजिए वो दूर है ,
                          बताइए कि आप क्या हैं ख़ुद से भी कभी मिले !

                          हुए हैं जब भी मश्‍वरे दिलो-दिमाग़ में कभी ,
                          कुसूरवार हर तरफ से हम ग़रीब ही मिले !

                          जनाब आप मौत का ज़रूर देखिएगा घर ,
                          किसे ख़बर कि ज़िन्दगी उसी जगह छुपी मिले !

                          ये रहमत-ए-ख़ुदा की भी कमाल कारसाज़ियां ,
                          पते ग़लत लगे ज़रूर , ठीक आदमी मिले !