भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

मेरे साथ हो यह रहा है / येव्गेनी येव्तुशेंको

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

बेला अख़्मादुलीना के लिए


मेरे साथ हो ये रहा है-
मेरी पुरानी दोस्त
अब नहीं आती मेरे पास
त्यौहार की इस गहमागहमी में
लोग बहुत आते हैं
पर वह नहीं चाहती मेरा साथ

घूम रही है वह
किन्हीं औरों के साथ
हालाँकि समझ रही है मेरी भी वह बात
बताया नहीं जा सकता
झगड़ा ऎसा है हमारा
कष्ट में हैं हम दोनों
पर दोनों का चढ़ा हुआ है पारा

मेरे साथ हो यह रहा है-
अब आती है
दोस्त दूसरी प्रतिदिन मेरे पास
धीमे से मेरे कंधो पर रखती अपना हाथ
करती वह सब कि भूल जाऊँ मैं
पुरानी दोस्त का साथ
मुझे चुराए, दिल बहलाए
जमा रही विश्वास

हे भगवान! मुझे बताओ
क्या हो रहा है यह?
दोस्त पुरानी
अब किसके कंधों पर रखेगी अपना हाथ
कहाँ जाएगी वह
शायद करे मनमानी
बदला लेने के लिए
चुराएगी किसी दूसरे का साथ

पता नहीं क्या होगा, भाई
मेरे साथ अभी रहेगी जारी उसकी लड़ाई
धीरे-धीरे भूल जाएगी
पूरी तरह वह मुझको
और साथ में ले लेगी फिर
न जाने वह किसको

कितनी बार ऎसा होता है
बन जाते हैं बन्ध
मूर्खतावश पैदा हो जाते हैं
अनावश्यक सम्बन्ध
शत्रु भी बनते हैं ऎसे
बनते हैं मित्र अभी भी
होती नहीं ज़रूरत जिनकी
जीवन में कभी भी

इस सबसे मैं हो गया हूँ
बहुत अधिक परेशान
बन गया हूँ जैसे मैं भी आदमी से शैतान

अब आए कोई ऎसा व्यक्ति
जो छेड़े मेरे मन को
ले जाए वह मुझे साथ वहाँ
जहाँ भूल जाऊँ इस क्षण को
चाहूँ पाना ऎसी दोस्त
जहाँ नहीं फिसलन हो
साथ जिसके रहूँ सदा मैं
उससे आत्मिक मिलन हो

मूल रूसी भाषा से अनुवाद : अनिल जनविजय