भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

मेरे सुग्गे तुम उड़ना / बद्रीनारायण

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

दग़ा है उड़ना
धोखा है उड़ना
कोई कहे-
छल है, कपट है उड़ना
पर मेरे सुग्गे, तुम उड़ना

तुम उड़ना
पिंजड़ा हिला
सोने की कटोरी गिरा
अनार के दाने छींट
धूप में करके छेद
हवाओं की सिकड़ी बजा
मेरे सुग्गे, तुम उड़ना।