भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए

मैँ रोता हूँ मेरे रोने को सब नकली समझते हैँ / सिराज फ़ैसल ख़ान

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मैँ रोता हूँ मेरे रोने को सब नकली समझते हैं ।
मगर संसद के घड़ियालों को सब मछली समझते हैं ।

मची है लूट सारे मुल्क में हालात हैँ बदतर,
लुटेरों की वो जन्नत है जिसे दिल्ली समझते हैं ।

वो ख़ुश है उसके भाषण पर बजी हैं तालियाँ लेकिन,
सियासत में सभी वादों को हम 'रस्मी' समझते हैं ।

हमें मालूम ना था छुपके मिलते हो रक़ीबों से,
तुम्हारी ज़ात को हम आज तक असली समझते हैं ।

तरक्की आपको और आपके शहरों को मुबारक,
हम अपने गाँव को ही दोस्तो इटली समझते हैं ।

फरेब खाकर हज़ारों इश्क़ में ख़ामोश बैठी है,
मुहल्ले वाले नाहक ही उसे पगली समझते हैं ।

किसी के ग़म में रो रोकर धुले हैं रंग सब उसके,
वही तस्वीर कि जिसको सभी धुँधली समझते हैं ।

वो एक दिन धूप में आये थे तो पानी बहुत बरसा,
मेरे घरवाले उस दिन से उन्हें बदली समझते है ।