भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

मैंने कितनी बार ग़रीबी में / रामश्याम 'हसीन'

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मैंने कितनी बार ग़रीबी में
झेली वक़्त की मार ग़रीबी में

ख़ुद से जितनी भी थी उम्मीदें
टूटीं सौ-सौ बार ग़रीबी में

बेशर्मी को ओढ़े फिरते हैं
अक्सर इज़्ज़तदार ग़रीबी में

घर की हालत मत पूछो, गुम हैं
दरवाज़ा, दीवार, ग़रीबी में

किसकी बात कहूँ, सब रूठे है
बीवी-बच्चे-यार ग़रीबी में